पीपल्याहाना फ्लायओवर, कार्गो टर्मिनल, इनक्यूबेशन सेंटर भी तैयार

पीपल्याहाना फ्लायओवर, कार्गो टर्मिनल, इनक्यूबेशन सेंटर भी तैयार

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 6 जनवरी को इंदौर आएंगे। वे शहर के सबसे स्मार्ट पीपल्याहाना फ्लायओवर के साथ कार्गो टर्मिनल, इनक्यूबेशन सेंटर, गांधी हॉल, पांच एसटीपी समेत कई सौगातें सौंपेंगे।

1. पीपल्याहाना फ्लायओवर
ट्रैफिक शुरू होने से रिंग रोड और उससे जुड़ी सौ से ज्यादा कॉलोनियों को फायदा होगा। पीपल्याहाना चौराहे से अलग-अलग रूट की 500 से ज्यादा यात्री बसें गुजरती हैं। सभी का कम से कम आधा घंटा बचेगा। डेढ़ से दो लाख वाहन चालकों को सीधे तौर पर राहत। रिंग रोड बायपास की अहम लिंक रोड है।

2. इन्यूबेशन सेंटर
इंदौर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत सिटी बस ऑफिस में तैयार नई बिल्डिंग में इन्यूबेशन सेंटर का इन्फ्रास्ट्रक्चर तैयार हो चुका है। संचालन आईआईएम अहमदाबाद करेगा। एग्रीमेंट प्रोसेस चल रही है। इससे इंदौर के युवाओं को स्टार्ट-अप शुरू करने के लिए आर्थिक और वैचारिक रूप से सपोर्ट मिलेगा।

3. इंटरनेशनल कार्गो टर्मिनल
उद्योगपति, कारोबारी अपना सामान देश और दुनिया में कहीं भी भेज सकेंगे। कस्टम क्लीयरेंस की सारी प्रक्रिया यहीं हो सकेगी। व्यापारियों को इसके लिए दिल्ली-मुंबई में अपना समय खर्च नहीं करना पड़ेगा। इंदौर से ही सीधे एक्सपोर्ट होने से व्यापारियों के 25 से 30 घंटे बचेंगे।

4. पांच एसटीपी
बिजलपुर, प्रतीक सेतु, नहर भंडारा, राधा स्वामी, आजादनगर सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट (एसटीपी) से 67 एमएलडी पानी साफ हो सकेगा। इससे नदी सफाई में काफी सहयोग मिलेगा। पांचों एसपीटी की लागत 183 करोड़ रुपए है। ट्रीटेड वाटर का इस्तेमाल फैक्टरियों, बगीचों में हो सकेगा।

5. पानी की आठ टंकी
23 करोड़ की लागत से तैयार पानी की आठ टंकियों से 11 हजार 960 परिवार लाभान्वित होंगे। ये टंकियां विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 5 में अलग-अलग इलाकों में होंगी। इसके अलावा गांधी हॉल का लोकार्पण भी होगा। इसे स्मार्ट सिटी कंपनी द्वारा नए स्वरूप में तैयार किया गया है।