वर्क फ्रॉम होम का फायदा उठाकर ब्रिटेन में वेट लॉस सर्जरी बढ़ीं और दक्षिण कोरिया में मास्क के कारण नोज सर्जरी ज्यादा हुईं

वर्क फ्रॉम होम का फायदा उठाकर ब्रिटेन में वेट लॉस सर्जरी बढ़ीं और दक्षिण कोरिया में मास्क के कारण नोज सर्जरी ज्यादा हुईं

कोरोनाकाल में दुनियाभर में कई लोगों ने आपदा को अवसर को बदल दिया। बेंगलुरु से ब्रिटेन तक के लोग वर्क फ्रॉम होम और मास्क का फायदा उठाकर खुद को बेहतर बनाने की सर्जरी करवा रहे हैं।

ब्रिटेन में थुलथुल लोग पेट कम करवाने, लिपोसक्शन जैसी सर्जरी करवा रहे हैं। इसके दो फायदे हैं। पहला, उन्हें अतिरिक्त छुट्टियां नहीं लेनी पड़ रही हैं और वे वर्क फ्रॉम होम करते हुए रिकवर हो जा रहे हैं। दूसरा, वे सर्जरी को सहकर्मियों से भी छुपा सकते हैं। क्लीनिक्स का दावा है कि उनके यहां होने वाली कुछ सर्जरी की मांग में 500% का उछाल आया है।

अगले 9 माह तक के लिए एडवांस बुकिंग

ब्रिटिश एसोसिएशन ऑफ एस्थेटिक प्लास्टिक सर्जंस के काउंसिल मेंबर डैन मार्श के मुताबिक, उनके अगले नौ माह के सभी स्लॉट बुक हैं। पॉल मॉल कॉस्मेटिक्स के मुताबिक, लिपोसक्शन के बारे में पूछताछ लॉकडाउन के पहले के मुकाबले दोगुनी हुई है। पेट कम करवाने की पूछताछ 40% बढ़ी है। पुरुष सीने पर चर्बी हटवाने की सर्जरी करवा रहे हैं। इसकी मांग 115% बढ़ी है। ब्रेस्ट रिडक्शन के बारे में पूछताछ 520%, तो ब्रेस्ट ऑग्मेन्टेशन के बारे में 110% बढ़ी है।

दूसरी तरफ, दक्षिण कोरिया में महामारी के दौरान भी युवतियों में नोज सर्जरी का ट्रेंड बढ़ा है। वजह, वे मान रही हैं कि इस साल वैक्सीन लग गई तो मास्क उतर जाएगा। इसलिए अभी सर्जरी फायदेमंद हैं, ताकि मास्क के नीचे नाक के निशान छुप जाएं। मालूम हो, दक्षिण कोरिया को कॉस्मेटिक सर्जरी की वैश्विक राजधानी कहा जाता है।

भारत में पहले एक हफ्ते में तीन सर्जरी
भारत भी इससे अछूता नहीं है। बेंगलुरु के निजी हॉस्पिटल के डॉ. वेप्पालापति के मुताबिक दिसंबर तक हम एक हफ्ते में तीन सर्जरी कर रहे थे। 1 जनवरी के बाद रोज तीन सर्जरी कर रहे हैं। हेयर ट्रांसप्लांट, राइनोप्लास्टी, बॉडी स्कल्पटिंग, फैट रिडक्शन के साथ ही बोटॉक्स, फिलर और फेशियल मेकओवर की भी भारी डिमांड है।

सर्जरी कराने से पहले इनका जोखिम भी समझ लीजिए

राइनोप्लास्टी: नाक को खूबसूरत बनाने के लिए

नाक की खूबसूरती के लिएइस कॉस्मेटिक सर्जरी का इस्तेमाल नाक को सही शेप देने के लिए किया जाता है। अमूमन चेहरे के अनुपात में नाक बड़ी दिखाई देना, अधिक चपटी होना या नथूने बड़े होने जैसी स्थिति होने पर राइनोप्लास्टी की जाती है। इस सर्जरी में 3-4 घंटे लग सकते हैं। अधिक समय लगने पर एक-दो दिन के लिए अस्पताल में रुकना पड़ सकता है। एक्सपर्ट इसे 20 साल की उम्र के बाद ही कराने की सलाह देते हैं। इसमें करीब 1.5 से 2.5 लाख रुपए का खर्च आता है।

सावधानी : धूप से जाने से बचें और कम से कम 4 घंटे आराम करें। सोते समय सिर ऊपर रखें और नाक की जगह मुंह से सांस लें, इसके अलावा बात कम करें और भारी सामान उठाने से बचें। सर्जन की बातों को सावधानी से फॉलो करें।

जोखिम: सर्जरी के चार हफ्ते बाद स्थिति नॉर्मल हो जाती है लेकिन कुछ मामलों में नाक में आई सूजन को खत्म होने में ज्यादा समय लग सकता है। सर्जरी के निशान रह सकते हैं और ब्लीडिंग हो सकती है।

लिपोसक्शन: शरीर के खास हिस्से की चर्बी को कम करते हैं

शरीर के खास हिस्सों की चर्बी घटाकर कर देते हैं शेपशरीर के कुछ हिस्से जैसे हाथ, जांघ, कमर में चर्बी अधिक जम जाती है। कई बार लड़कों के सीने पर अधिक उभार होने को हटाने के लिए ये सर्जरी की जाती है। बॉडी की एक्स्ट्रा को हटाकर फिगर को बेहतर शेप में लाया जाता है। इसमें 1.50 से दो लाख का खर्च आता है।

सावधानी: आराम करें और अधिक मूवमेंट से बचें। डॉक्टरी सलाह से कुछ दिन एक्सरसाइज न करें और पानी की कमी न होने दें। 6-7 दिन तक प्रेशर गारमेंट पहनें ताकि बॉडी शेप में आ सके।

जोखिम: शरीर में आने वाली सूजन को खत्म होने में एक से डेढ़ महीना लग सकता है। त्वचा लटक सकती है और ब्लीडिंग का खतरा रहता है। दर्द भी रह सकता है।

फेसलिफ्ट: चेहरे की झुर्रियां हटाने के लिए

चेहरे की झुर्रियों को हटाकर खूबसूरत दिखने के लिएइस सर्जरी का इस्तेमाल चेहरे की झुर्रियों को हटाने के लिए किया जाता है। इसके लिए चेहरे की स्किन को स्ट्रेच पर झुर्रियों को हटाया जाता है। इस सर्जरी में 2-3 घंटे लगते हैं। 8-10 साल तक इसका असर रहता है। इस सर्जरी की मदद से आंखों के पास, ठोडी या मुंह के पास लटकी स्किन को टाइट किया जाता है। इस सर्जरी में 2.5 से 3 लाख रुपए लगते हैं।

सावधानी: सर्जरी के बाद कोई भी काम झुककर न करें। भारी वजन उठाने से बचें क्योंकि इससे चेहरे पर भी खिंचाव आता है। छींकते समय सावधानी बरतें और कुछ दिन तक वर्कआउट न करें।

जोखिम: चेहरे पर सूजन आ सकती है। कुछ मामलों में ब्लीडिंग या इंफेक्शन का खतरा रहता है। दर्द भी हो सकता है।

ब्लेफारोप्लास्टी: आईब्रो को आर्च शेप देने के लिए

आर्च शेप आईब्रो के लिएइस सर्जरी का इस्तेमाल ज्यादातर महिलाएं ही करती हैं। इसमें लटकी हुईं आईब्रो को ऊपर कर शेप में लाया जाता है जिससे आप जवां दिखते हैं। इसके अलावा लटकी हुई स्किन को भी ठीक किया जाता है। इसमें 70 हजार से 1 लाख रुपए तक का खर्च आता है।

सावधानी: सर्जरी वाले हिस्से को छुएं नहीं और न हीं रगड़ें। धूप से खुद को बचाएं और कम से कम दो हफ्तों तक लेंस न लगाएं।

जोखिम : सूरज की रोशनी सेंसेटिव हो सकती है। इसके अलावा आंखें ड्राई हो सकती हैं।

ब्रेस्ट एन्हेंसमेंट : ब्रेस्ट को शेप देने के लिए

इसे ब्रेस्ट ऑग्मेंटेशन या बूब जॉब भी कहते हैं। इसमें ब्रेस्ट को टाइट और बड़ा करके सही आकार दिया जाता है। इस सर्जरी को कई तरह किया जाता है। इसमें अलग-अलग तरह के इंप्लांट्स जैसे सिलीकॉन या सैलाइन ब्रेस्ट इंप्लांट्स या फैट का इस्तेमाल होता है। इसमें 2-3 घंटे लगते हैं और करीब 1-2 लाख रुपए तक खर्च आता है।

सावधानी : दो माह से भारी वजन उठाने के लिए मना किया जाता है। इसके अलावा सर्जरी को सफल बनाने के लिए स्पोर्ट ब्रा पहनने की सलाह दी जाती है। दर्द और संक्रमण से बचाने के लिए कुछ दवाएं दी जाती हैं। सूजन होने पर डॉक्टरी सलाह लें।

जोखिम : ब्रेस्ट में गांठ का खतरा रहता है, टेस्ट कराकर पता लगा सकती हैं। कुछ मामलों में इस सर्जरी को 2-3 माह में दोबारा कराना पड़ सकता है। ब्रेस्ट में दर्द हो सकता है या इंप्लांट्स के लीक होने का खतरा रहता है।