EPFO से जुड़ने वाले नये अंशधारकों की संख्या मार्च में घटी, 5.72 लाख पर रही

EPFO से जुड़ने वाले नये अंशधारकों की संख्या मार्च में घटी, 5.72 लाख पर रही

एंप्लाई प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन-एंप्लाई प्रॉविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन (ईपीएफओ) से जुड़ने वाले शुद्ध नये अंशधारकों- (सब्स्क्राइबर्स) की संख्या इस साल मार्च में घटकर 5.72 लाख रही जबकि एक महीने पहले यह 10.21 लाख थी. ईपीएफओ के नौकरी के आंकड़ों से यह बात पता चली है.

 

ईपीएफओ के आंकड़े के मुताबिक हालांकि वित्त वर्ष 2019-20 में शुद्ध रूप से नये अंशधारकों की संख्या बढ़कर 78.58 लाख रही जो इससे पहले के वित्त वर्ष में 61.12 लाख थी.

 

एंप्लाई प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन नये अंशधारकों का आंकड़ा अप्रैल 2018 से जारी कर रहा है. इसमें सितंबर 2017 से आंकड़े जारी किये जा रहे हैं.

 

आंकड़े के मुताबिक सितंबर 2017 से मार्च 2020 के दौरान नये अंशधारकों की संख्या शुद्ध रूप से 1.55 करोड़ रही. सितंबर 2017 से मार्च 2018 के दौरान शुद्ध रूप से नये अंशधारकों की संख्या 15.52 लाख रही.

 

ईपीएफओ ने कहा कि ‘पेरोल’ का आंकड़ा अस्थायी है क्योंकि कर्मचारियों के रिकार्ड का अद्यतन एक निरंतर प्रक्रिया है और उसे आने वाले महीने में दुरूस्त किया जाता है.

 

एंप्लाई प्रोविडेंट फंड ऑर्गेनाइजेशन के अनुसार, ‘‘सरकार ने 25 मार्च से लॉकडाउन की घोषणा की. इसके अनुसार मार्च महीने के लिये ईसीआर (पीएफ रिटर्न) फाइल करने की तारीख बढ़ाकर 15 मई 2020 कर दी गई थी.

 

ईपीएफओ ने यह अनुमान शुद्ध रूप से जुड़े नये अंशधारकों के आधार पर तैयार किया है. इसमें नौकरी छोड़कर जाने वाले और फिर ज्वाइन करने वालों को ध्यान में लिया गया है.